भाई के दोस्त ने बनाया चूत का भोसड़ा, हो गई लगातार ठुकाई

Edited by Super Admin, Updated: 22 Jul, 2024 07:24 AM (IST)

हैलो दोस्तों मेरा नाम रतिका है। मैं शादीशुदा हूं लेकिन ये किस्सा उस वक्त का है जब मेरी शादी नहीं हुई थी और मैं बठिंडा में रह रही थी। अब मैं अपनी असली कहानी बताने जा रही हूं। मेरा रंग सांवला है और मेरे बूब्स बड़े हैं। मेरी गांड बहुत सेक्सी है। मेरे घर में हम चार लोग रहते हैं। मेरे पिता का नाम संदीप शर्मा है, मेरी मां मीनाक्षी शर्मा, मेरा भाई विजय है। उनकी उम्र 25 साल है और मैं 22 की।

अब ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए मैं बातों पर आती हूं। मैं कमरे में बैठकर पढ़ाई कर रही थी। तब मैं 18 साल साल की थी। मेरे घर की घंटी बजी और मैं उठी और गेट खोला तो अल्ताफ और ओंकार आए। अल्ताफ मेरे भाई का दोस्त है।  मैंने उन्हें अंदर बुलाया। मैंने एक स्कर्ट पहन रखी थी जिससे मेरी जांघें दिख रही थीं और मैंने बहुत टाइट टी-शर्ट पहन रखी थी। अल्ताफ मुझे देखकर चौंक गया। उनकी नजर मेरे बूब्स पर थी।

फिर वो मेरी तरफ देखकर मुस्कुराया और बोला कि रतिका तुम बहुत अच्छी लग रही हो। दोस्तों अल्ताफ एक बहुत अच्छा दिखने वाला लड़का है और मैं हमेशा से उसे अपने बॉयफ्रेंड के रूप में चाहती थी, लेकिन वह एक मुस्लिम था और मैं एक हिंदू। और मुझे डर था कि अगर किसी को पता चल गया तो क्या होगा? दोस्तों अल्ताफ एक फिल्म लेकर आए और फिर मेरे घर के सभी लोग बाहर चले गए। हम तीनों बैठकर मूवी देखने लगे और कुछ देर बाद मेरे भाई का फोन आया और वह बाहर क्रिकेट खेलने चला गया। अब अल्ताफ और मैं घर में अकेले थे।

अल्ताफ और मैं साथ-साथ बैठे थे। हमारे शरीर एक-दूसरे को छूने लगे। फिर फिल्म में एक किसिंग सीन था और मैं शरमा गई। अल्ताफ ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरे कंधे सहलाने लगा और मुझे गर्मी लग रही थी। फिर उसने मुझे खड़ा किया और किस करने लगा, लेकिन मुझे पता नहीं था।

फिर उसने मेरी टी शर्ट उतार दी और मेरे बूब्स को चूसने लगा। लेकिन उस वक्त मेरे बूब्स छोटे थे और वह उनको काफी रगड़ रहे थे। उसने मेरी स्कर्ट उतार दी और मैंने उसके सामने सिर्फ पैंटी पहन रखी थी, कुछ देर बाद उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और मैं उसके सामने नंगी खड़ी थी। उसने मेरे पूरे बदन को चाटा और जब मैंने पहली बार उसका लंड देखा तो मैं चौंक गई क्योंकि उसका लंड 7 इंच का था और वो बहुत मोटा था। फिर उसने मेरी चूत को सहलाया और मेरी चूत पूरी तरह गीली हो चुकी थी।

मेरी चूत से पानी निकलने लगा। उसने अपना हाथ पैंटी के अंदर डाला और मेरी चूत को रगड़ने लगा। जैसे ही मैंने लंड को छुआ, मैं पागल हो गई और भूल गई कि मेरी शादी हो चुकी है। मैंने उससे कहा- प्लीज अब मुझे डिस्टर्ब मत करो। कुछ मत करो

उसने कहा- क्या करूं?

मैं: मुझे परेशान मत करो..

वो: मुझे अपनी चूत दिखाओ..

मैं: पहले लाइट बंद करो

उसने लाइट बंद की और अपने कपड़े उतार कर मेरे पास आ गया। उसने मेरी पैंटी उतार दी और नाइट लैंप चालू कर दिया।

मैंने अपना मुंह छुपा लिया.. उसे अपना लंड मेरे आगे किया।

मैं: बहुत बड़ा है, अंदर कैसे जाएगा?

वह: वह अंदर जाएगा और तुम मजे करोगे

उसने अपनी जीभ मेरी चूत पर रख दी और मैं सिहर उठी।

फिर हम 69 पोजीशन में आ गए, वो मेरी चूत को चाट रहा था और मैं उसके लंड को चूस रही थी। फिर उसने टांगें अलग कर दीं और अपना लंड चूत पर रगड़ने लगा। उसने हल्का साल डाला। मैंने अपने होठों को अपने दांतों से दबा लिया। मेरी चूत बहुत टाइट थी। मैंने कहा मुझे दर्द हो रहा है, फिर उसने अपना लंड निकाला और उस पर थूक दिया और मेरी चूत में डाल दिया वो आधा अंदर चला गया मुझे मजा आने लगा और बोला आराम से ।

फिर उसने धीरे से अपना पूरा लंड चूत में डाला और जोर जोर से कस्से मारने लगा। मेरी आवाज पूरे कमरे में गूंज रही थी। हमने 10 मिनट लगातार ठुकाई की। उसके बाद हमने साथ में पानी छोड़ा। उसके बाद मैं कुछ देर के लिए सो गई। और बाहर दरवाजे की घंटी बजी और हम दोनों घबरा गए और उसने मुझे बाथरूम में भेज दिया, मैं सीधे नहीं चल पाई मैं किसी तरह बाथरूम में पहुंची और बैठ गई और वो दरवाजा खोलने चला गया। उसने दरवाजा खोला तो ओंकार बाहर खड़ा था और वह अंदर आ गया।

वह अल्ताफ से पूछता है कि रतिका कहां है? तो उसने कहा कि वह बाथरूम में थी और वापस बाहर चली गई। अल्ताफ ने जाते ही जल्दी से दरवाजा बंद कर दिया और बाथरूम के पास आया और मुझसे दरवाजा खोलने को कहा और मैंने खोल दिया। फिर वो मुझे उठाकर बाहर ले गए और मैंने सबसे पहले देखा कि मेरी स्कर्ट पर काफी खून लगा हुआ है। उसने मुझे बिस्तर पर सीधा लिटा दिया और मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरी चूत को सहलाने लगा।

कुछ देर बाद उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और अपना लंड वापस मेरी चूत पर सेट कर दिया और जोर से जोर से धक्का दिया और अपना आधा लंड अंदर कर लिया, उसने मुझे चूमा ताकि मेरी आवाज बाहर न निकले। मैं उसकी पीठ पर अपने नाखून गढ़ने लगी।

उसने मुझे लगातार चोदना शुरू कर दिया और मैं चिल्लाई आह ओहह... आहहह... ओहहह...धीरे धीरे अल्ताफ धीरे करो...अपना लंड निकालो। लेकिन उसने परवाह नहीं की और मुझे जोर से चोदना शुरू कर दिया। दस मिनट के बाद उसने जल्दी से अपना लंड बाहर निकाला और मेरे बूब्स पर सारा वीर्य निकाल दिया। फिर उसने मुझे किस किया और 4 मिनट के बाद उसका लंड फिर से सख्त हो गया। उसने अपना लंड वापस मेरी चूत पर रख दिया और एक जोर का झटका दिया।

दोस्तों इस बार उसका पूरा लंड अंदर घुस गया और उसने मुझे जोर से चोदना शुरू कर दिया, कुछ देर बाद मुझे बहुत मजा आने लगा और मैं भी उसका साथ देने लगी। उसने मेरी खूब चुदाई की। हमने 20 मिनट तक सेक्स किया। फिर हमने कपड़े पहन लिए। वह उठकर चला गया। मैं धीरे से उठी और पहले मैंने बिस्तर की चादरें धोईं। मुझे उसने बहुत बार फिर चोदा। मेरी शादी होने से पहले उसने मेरी चूत का भोसड़ा बना दिया था। मेरी शादी 22 साल की उम्र में हुई थी, लेकिन 4 साल में मेरी चूत खूब बजी थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Stay updated by signing up for newsletter